जनता का, जनता के लिए, जनता के द्वारा, विकास… और श्रेय माननीय मंत्री जी को क्यों….??

मन्नू चन्देल। कवर्धा

जैसा कि विदित है,पूरे छत्तीसगढ़ में कोरोना की मार झेल रहे लोगो के मदद के लिए माननीय, मुख्यमंत्री आपदा सहायता कोष के माध्यम से सक्षम आदमी पैसे दान कर रहे है।
एक ओर जहां आम आदमी अपनी क्षमता के अनुकूल राशि दे रहा है वही, विधायकगढ़ अपने 1 महीने तनख्वाह का दे रहे है जो स्वागत योग्य है साथ ही साथ अपने मुख्यमंत्री का हौसला अफजाई करने वाली भी बात है।
लेकिन सोचने योग्य बात है कि, कवर्धा विधायक के मानने वालों ने उस दिन राशि को ऐसा बढ़ चढ़ा कर पेश किया है मानो, मंत्री जी ने अपने घर से दिया हो,जिस तरह से छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा मतों से जीते है, उसी तरह प्रदेश में उनका नाम आगे करने के लिए उनके समर्थक उनके द्वारा विधायक निधि से दिए राशि को उनकी सेपरेट पूंजी समझकर,वाह वाही लूटने में कोई कसर नही छोड रहे है।
जैसा कि प्रेस में रिलीज़ जानकारी के अनुसार, बोड़ला, लोहरा, रबेली जैसे जगहों में आम जनता के लिए विधायक निधि से लाखों रुपये के काम स्वीकृत हुये थे, विधायक जी ने उक्त राशि को लेप्स हो जाने के डर से (लेकिन अभी डर कैसा 4 साल बाकी है) उसी राशि को स्वास्थ्य विभाग को दे दिया।
अब इसमें क्या बड़ी बात..?
जनता के विकास का पैसा जनता के लिए चल गया, लेकिन स्वास्थ्य विभाग उसका कितना उपयोग करती है ये देखने लायक होगा…??
क्योंकि कबीरधाम का जिला अस्पताल तो रेफेर सेंटर है, यहाँ वो भी कॅरोना जैसे मरीजो का इलाज तो इलाज जांच हो जाये, बड़ी बात होगी,क्योंकि आज ही सुबह जांच कराने गए किसी को वापस भेज दिया गया जांच नही किया गया..?
खैर कोरोना के मरीज का इलाज हो या न हो लेकिन मंत्री जी की चतुराई यहाँ काम तो आ गई और उनके समर्थकों के लिए 21 दिन के लिए सोशल मीडिया के लिए मसाला जरूर मिल गया….।
अगर यही राशि माननीय मंत्री जी ने अपने घर से दिया होता तो उस 20 लाख रुपये से 21 दिन प्रत्येक गरीब परिवार के घर 2 वक़्त का खाना जरूर पक जाता और उनका परिवार, मंत्री जी को दुआ देते लेकिन कवर्धा की सीधी साधी जनता को हमेशा की तरह ठग ही दिया गया…।
भगवान ना करे यहां कोई कैरोना का मरीज निकले…,।
लेकिन 21 दिन कोई भूखा न सोये इसकी भी भगवान से अल्लाह से प्रार्थना करता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *