रिमझिम फुहारों ने सावन माह का किया श्रृंगार…

अजय अग्रवाल सक्ती : क्षेत्र सहित पूरे प्रदेश में इन दिनों लगातार बारिश होने से मौसम सुहाना हो गया है , सावन माह के पहले दिन से ही  सावन की झड़ी लगी है जिससे चारों ओर हरियाली ही हरियाली नजर आ रही है इन दिनों ऐसा लग रहा है जैसे पेड़-पौधों ने भी अपना श्रंगार कर लिया हो। पेड़ पौधों पर लगने वाले विभिन्न प्रजातियों के पुष्प एवं भगवान शंकर को सबसे प्रिय बेलपत्र भी भरपूर मात्रा में इन दिनों लग रहे हैं

बरसात के  इस मौसम में लोग अपने घरों में ही रहना ज्यादा पसंद करते हुए मौसम का मजा ले रहे हैं , वहीं दूसरी ओर जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है जरूरी कामों के लिए ही लोग अपने घरों से निकल रहे हैं , नदी नालों का जलस्तर भी बढ़ गया है क्षेत्र के आसपास के नाले अब उफान पर हैं इसकी वजह से खेत व नहरों में जमा पानी की निकासी नदी नालों में हो रही है क्योंकि किसान खेतों में पानी रोकना नहीं चाह रहे हैं क्योंकि उन्हें खेती करते नहीं बन रहा है इसकी वजह से नदी नालों का जल स्तर भी बढ़ा हुआ है, क्षेत्र में मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया है खास करके किसानों के लिए खेती किसान में असर देखने मिल रहा है कई किसान जिनके पास नहर के पानी की सुविधा तथा ट्यूबवेल की सुविधा नहीं है उन किसानों के लिए इन दिनों हो रही बारिश फायदेमंद साबित हो रही है जिससे उनके चेहरों पर खुशी दिख रही है खेती किसानी का कार्य धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है वहीं दूसरी ओर हम अगर बरसात के मौसम में आवागमन की बात करें तो आवागमन के मार्गो के गड्ढों में पानी भर गया है जिससे आवागमन करने वालों को परेशानी हो रही है सबसे ज्यादा परेशानी पैदल चलने वालों को होती हैं क्योंकि जैसे ही दुपहिया वाहन या चार पहिया वाहन इन गड्ढों से होकर निकलते हैं तो कीचड़ पानी का छिड़काव पैदल चलने वालों पर पड़ता है जिससे उनके कपड़े गंदे हो रहे हैं ,जिससे उनके चेहरों पर कुछ देर के लिए नाराजगी देखी जाती है । बहरहाल रिमझिम फुहारों के बीच सावन माह मे प्रकृति ने अपना  श्रंगार कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *